“वर्तमान छात्रों की शिक्षा ज्यादातर किताबी है। छात्रों का उद्देश्य उपयोगी व्यावहारिक ज्ञान की वास्तविक शिक्षा से अधिक डिग्री प्राप्त करना है। छात्र बिना किसी निश्चित योजना या उद्देश्य के अपने कॉलेज के करियर से गुजरते हैं।”

“प्रेम को कोई तोहफे की उम्मीद नही होती है। प्रेम को कोई डर नहीं होता। प्रेम केवल देता है – माँग नहीं करता। प्रेम के लिये कोई बुराई नहीं; कोई मकसद नहीं। प्यार करना बांटना और सेवा करना है।”

“बुद्ध ने अपने समस्त भौतिक सुखों का त्याग किया क्योंकि वे संपूर्ण विश्व के साथ यह खुशी बांटना चाहते थे जो मात्र सत्य की खोज में कष्ट भोगने तथा बलिदान देने वालों को ही प्राप्त होती है।”

“मैं ब्रह्मांड में एकता की भावना देखता हूं। अध्यात्म केवल एक धर्म तक सीमित नहीं है। इसे विभिन्न धर्मों में अनुभव किया जा सकता है। मैं अद्वैत के दर्शन और एकता के दर्शन पर मोहित हूं। हमें इस भ्रम को दूर करना होगा कि ईश्वर हमसे अलग है।”