गांधीजी के सुविचार

प्रतिज्ञा के बिना जीवन उसी तरह है जैसे लंगर के बिना नाव या रेत पर बना महल।

Mahatma Gandhi