गांधीजी के सुविचार

अधभूखे राष्ट्र के पास न कोई धर्म, न कोई कला और न ही कोई संगठन हो सकता है।

Mahatma Gandhi