गांधीजी के सुविचार

“सच्ची अहिंसा मृत्युशैया पर भी मुस्कराती रहेगी। ‘अहिंसा’ ही वह एकमात्र शक्ति है जिससे हम शत्रु को अपना मित्र बना सकते हैं और उसके प्रेमपात्र बन सकते हैं|”

Mahatma Gandhi