बाबा साहेब के विचार

महात्मा आये और चले गये परंतु अछुत, अछुत ही बने हुए हैं।

B. R. Ambedkar