आंबेडकर जी के विचार

किसी का भी स्वाद बदला जा सकता है, लेकिन ज़हर को अमृत में परिवर्तित नहीं किया जा सकता।

B. R. Ambedkar