एपीजे अब्दुल कलाम जी के सुविचार

एक किताब, सौ दोस्तों के बराबर है| लेकिन सिर्फ एक अच्छा दोस्त एक पूरे पुस्तकालय के बराबर है|

APJ Abdul Kalam